पैरालंपिक में गोल्ड जीतने वाले कृष्णा नागर ने अपनी मां की मौत की खबर सुनकर, नहीं पहुँच सके देश का सबसे बड़ा खेल पुरस्कार लेने।

टोक्यो ओलंपिक में भारत के कई दिग्गज खिलाड़ियों ने मेडल जीतकर भारत का तिरंगा ऊंचा किया जिसके लिए उन्हें राष्ट्रीय भवन में राष्ट्रीय खेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इन्ही खिलाड़ियों में से एक खिलाड़ी ऐसा भी था जिन्हें खिलाड़ियों का सबसे बड़ा सम्मान मेजर ध्यानचंद खेल रत्न देकर उसे सम्मान दिया जाता है ।

कृष्णा नागर ने टोक्यो ओलंपिक में अपने भारत देश के लिए गोल्ड मेडल जीता था मगर अफसोस की बात यह रही कि सबसे बड़ा खेल सम्मान हासिल करने के लिए पूरी तैयारी कर लेने के बावजूद यह खिलाड़ी राष्ट्रीय भवन नहीं पहुंच सका क्योंकि इसी बीच उनके मां के निधन की खबर आ गई और उन्हें अपने घर जाना पड़ा यह खिलाड़ी और कोई नहीं राजस्थान के रहने वाले कृष्णा नागर है जिन्होंने इसी साल हुए सितंबर में टोक्यो ओलंपिक में M6 कैटेगरी बैडमिंटन में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया था।

पैरालंपिक में M6 कैटेगरी बैडमिंटन में जीता गोल्ड

हम जिस की बात कर रहे हैं वह कोई और नहीं राजस्थान के रहने वाले कृष्णा नागर की बात की जा रही है क्योंकि उन्होंने इसी साल सितंबर में हुए टोक्यो ओलंपिक में एमसीएक्स कैटेगरी बैडमिंटन में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया था उनके इसी ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए मेजर ध्यानचंद पुरस्कार से सम्मानित किया जाना था।

यह भी पढ़े: Virat Kohli quits captaincy: विराट कोहली ने छोड़ी T20 फॉर्मेट से कप्तानी, हुए भावुक ।

लेकिन वह शनिवार को अवार्ड रिसीव करने के लिए राष्ट्रीय भवन नहीं पहुंच सके क्योंकि वह शुक्रवार को भी उनकी माता का देहांत हो गया था जिस वक्त कृष्णा नागर को अपने मां की मौत की खबर मिली तो उस वक्त दिल्ली में मौजूद थे लेकिन जिस मां ने उन्हें पाल पोस कर बड़ा किया भारत माता का नाम रोशन करने के काबिल बनाया उस मां की निधन की खबर सुनते ही कृष्णा अपने घर जयपुर वापस लौट गए।

कृष्णा नागर के ऊपर टूट पड़ा दुःख का पहाड़

आप लोगों को बता दें कि कृष्णा नागर खेल सम्मान मिलने से उनका परिवार बहुत खुश था लेकिन इसी बीच अवार्ड ग्रहण करने से पहले ही उनकी माता का निधन की खबर मिलते ही जैसे सब कुछ बदल ही गया हो मां के निधन की खबर मिलने से पहले कृष्णा नागर कितना खुश थे उनके बयान से ही समझ सकते हैं

कृष्णा नागर
कृष्णा नागर

उन्होंने अपने बयान में कहा कि इन सब को मिलकर बहुत ही अच्छा लग रहा है सब लोग कहते हैं कि अपना ड्रीम पूरा हो रहा है और यह सब देख कर मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है और मुझे गर्व है कि मैं इस मुकाम तक पहुंच सका और हमारा परिवार बहुत ही खुश है मेरे मम्मी पापा तो बहुत ही ज्यादा खुश है इस चीज की उन लोगों को इतनी खुशी है कि हम आपको बता नहीं सकते

कृष्णा नागर अपनी माँ के बारे में बात करते हुए लगे रोने

कृष्णा नागर ने एक मीडिया पर बात करते हुए कहा कि 10 नवंबर को मैं अवॉर्ड सेरेमनी के लिए निकल रहा था मैंने मां से अपने लिए खाना बनाने के लिए कहा और मेरे पिता मेरे लिए अपने काम से वापस लौट आए थे।

यह भी पढ़े: T20 World Cup 2021 Final: आज होगा टी-20 विश्व कप का महामुकाबला, जाने क्या हो सकती है प्लेइंग इलेवन।

हम तीनों ने बहुत अच्छा वक्त गुजारा मुझे पता नहीं चला कि कब वह छत पर गई तब मैं नहा चुका था और अपनी तोलिया सुखा रहा था तभी मुझे जोर की आवाज सुनाई दी देखने पर पता चला कि मेरी मां टैरिस से पहले मंजिल पर गिर गई है और उन्होंने आगे कहा कि हम फौरन अस्पताल भागे और डॉक्टर ने उन्हें आईसीयू में भर्ती कर लिया और मुझे आश्वस्त किया कि मां की तबीयत में सुधार है इसके बाद में दिल्ली से गुरुवार को रवाना हुआ लेकिन बीती रात में उनका अस्पताल में निधन हो गया गिरने के बाद वे होश में नहीं आई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.