हिन्दू निमिषा उर्फ फातिमा ने भारत छोड़ ISIS ज्वाइन किया , क्या केरल अफगानिस्तान बन रहा है ?

केरल की एक लड़की निषिमा ने पहले फातिमा बनी उसके बाद अफगानिस्तान जाकर ISIS (इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड द लेवेंट) की आतंकी बन गई।  क्या केरल अफगानिस्तान बनने वाला है । तो क्या खतरे की घंटी बज चुकी है। पूर्व केंद्र मंत्री केजे एल्फोस ने दावा किया है कि केरल अब  तालिबान हो रहा। अगले 5 साल तक केरल के लिए बहुत खतरनाक होने वाले हैं। 

 निमिषा उर्फ फातिमा क्यों भागी ।

केरल से भागकर और 3 लड़कियां अफगानिस्तान भाग गई। वह जाकर आतंकी संगठन ISIS(इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड द लेवेंट) में शामिल हो गई। 2016 में केरल के 21 पुरुष और महिलाएं अफगानिस्तान जाकर आतंकी बनी।

ISIS आतंकी निमिषा
ISIS आतंकी निमिषा

31 मई 2016 को केरल ने कासरगोड की सेबेस्टियन भारत से भागकर मुस्लिम से शादी रचा कर जिहादी बन गई मेरिन जैकब उर्फ मरियम की शादी पलक्कड़ निवासी बेसिटन विंसेंट हुई थी। दोनों ISIS मैं शामिल हो गए केरल के युवा भटक रहे हैं। जबकि  केंद्र सरकार तालिबान के समर्थन में अभी तक कोई बयान नहीं दिया। आखिर केरल में हो क्या रहा , इसी बात पर केजे एल्फोस ने चिंता जताई है।

यह भी पढ़े:iphone13 की सीरीज में आया दमदार फ़ोन iphone13 pro और iphone13 pro max , जानिये दोनों की क्या है फ़ीचर।

ISIS के आतंकी को लोगो ने जताई चिंता 

खासकर केरल के कुछ हिस्सों में 25 साल से इन दोनों फ्रंटो ने चरमपंथ को खामोशी से बढ़ावा दिया जाता है यह बेहद दुखी था कि चरमपंथ के बीच बोना आसान है। खासकर केरल जैसे इलाके मैं जहां लोग शिक्षित हैं कुछ इलाकों में ISIS के आतंकी सबसे अधिक निकल रहे हैं और हालात ऐसे होते जा रहे हैं कि अगले 5 से 10 साल तक केरल अफगानिस्तान या तालिबान बन जाएगा।

यह भी पढ़े:BCCI के एंटी करप्शन यूनिट (ACU) के रडार में दीपक हुड्डा, मंगलवार को राजस्थान रॉयल्स vs किंग्स11 पंजाब के बीच मुकाबले में राजस्थान की रोमांचक जीत के कारण।

यह पहली बार नहीं है कि किसी बीजेपी के नेता ने केरल पर चिंता जताई है इससे पहले बीजेपी के अध्यक्ष के सुरेंद्र ने चिंता जताई थी क्योंकि यूडीएफ और एनडीएफ की टीम तालिबान के साथ खुलकर बैटिंग कर रही है। बीजेपी ने बार-बार आशंका जताई है। 1921 भोपला जैसे दंगों की हालात बनाई जा रही है। भारत के आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरे की घंटी बज चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.