UP Politics- शिवपाल यादव सपा विधायकों की मीटिंग में न बुलाने जाने से थे नाराज, अभी नहीं लेंगे विधायक के रूप में शपथ।

यूपी चुनाव में सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया और अपने चाचा शिवपाल यादव(Shiva pal Yadav) के साथ दोस्ती की। दोनों ने गठबंधन में चुनाव लड़ा प्रचार के दौरान भी एक दूसरे की तारीफे की यहां तक कि शिवपाल सिंह यादव ने ऐलान कर दिया था कि अखिलेश यादव मुख्य मंत्री बनने जा रहे हैं, लेकिन नतीजों मे सपा गठबंधन को जोर का झटका जरा जोरो से ही लगा पार्टी चारों खाने चित हो गई। हालांकि सपा गठबंधन ने 125 सीटों पर जीत हासिल की लेकिन उत्तर प्रदेश की सियासत की लगाम योगी आदित्य नाथ के हाथ में ही रही। अब चाचा गठबंधन की बैठक में शामिल नहीं हो रहे हैं। दरअसल कई मीडिया रिपोर्ट्स में जिक्र किया गया है, कि शिवपाल सिंह यादव अब विधायक पद की शपथ नहीं लेने वाले है। वह सहयोगी दल की बैठक में भी शामिल नहीं होंगे उन्हें बैठक में शामिल होने का बुलावा आया है, वह दिल्ली में है तो बैठक शामिल नहीं होने की बात सामने आई है.

शिवपाल यादव

 

सपा विधायकों की मीटिंग में न बुलाने जाने से थे नाराज- शिवपाल यादव

दरअसल उत्तर प्रदेश विधानसभा(UP VidhanSabha) के सदस्य के रूप में नव निर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाई जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्य(CM Yogi) नाथ समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव सहित कई नव निर्वाचित विधायकों ने शपथ ग्रहण कर ली है। अन्य विधायकों को भी शपथ दिलाया जा रहा है, ऐसी भी खबरें आई कि शिवपाल यादव अभी शपथ नहीं लेंगे। कुछ दिनों पहले समाजवादी पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक में अखिलेश यादव को विधायक दल का नेता चुना गया था। इस बैठक में शिवपाल सिंह यादव को नहीं बुलाया गया था, समाजवादी पार्टी का कहना था कि शिवपाल सिंह यादव प्रगतिशील समाजवादी पार्टी से है और बैठक समाजवादी पार्टी के विधायकों की थी, जबकि शिवपाल सिंह यादव का तर्क था कि उन्होंने समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा लिहाजा उन्हें बैठक में बुलाया जाना चाहिए था। बताते चलें शिवपाल यादव ने अपनी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी गठबंधन सपा के साथ किया था। Petrol-Diesel Price: देश में डीजल और पेट्रोल के दाम एक बार फिर आउट आफ कंट्रोल ।

नतीजों में शिवपाल सिंह यादव की पार्टी ने एक सीट जीती खुद शिवपाल सिंह यादव जसवंत नगर सीट से सपा के टिकट पर चुनाव जीतने में सफल रहे थे। माना जा रहा था कि शिवपाल सिंह यादव विधानसभा में बैठेंगे, और भाजपा को काउंटर करेंगे लेकिन वह फिलहाल विधायक पद की शपथ नहीं लेने वाले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.