E-Shram Card Registration: ई-श्रमिक कार्ड बनवाने क्या मिलेगा फायदा तथा E-Shram Card से कौन-2 सी योजनाओं के मिलेंगे लाभ।

E-Shram Card Registration: भारत सरकार के श्रम और रोजगार मंत्रालय के द्वारा देश के श्रमिकों के हितों की रक्षा, सुरक्षा तथा कल्याण को बढ़ावा देने के लिए ई-श्रमिक कार्ड(E-Shram Card ) योजना लॉन्च की गयी है तथा यह श्रम कानून के अधिनियमन और कार्यान्वयन द्वारा संगठित और असंगठित दोनों प्रकार के क्षेत्रों में श्रमिको को सुरक्षा प्रदान किया जाएगा तथा उनके दैनिक जीवन में सुधार पर काम किया जाएगा और इसके अंतर्गत सरकार ने एक पोर्टल बनाया है जिसपर जाकर आप रजिस्टर कर सकते है तथा रजिस्टर के उपरांत आपको एक 12 अंको का एक UAN( यूनिवर्सल अकाउंट नंबर ) नंबर दिया जाएगा तथा इससे भविष्य में सरकार के द्वारा लॉन्च की गयी योजनाओं का लाभ ले सकेंगे।

E-Shram Card का कैसे करे पंजीकरण तथा कौन-2 से लोग कर सकते है पंजीकरण

ई-श्रम कार्ड (E-Shram Card ) का पंजीकरण आप अपने किसी नज़दीकी CSC (कॉमन सर्विस सेंटर) पर जाकर कर सकते है अथवा आप इसे स्वयं भी रजिस्टर कर सकते है। इसके लिए आपको किसी ब्राउज़र पर टाइप करे https://eshram.gov.in और इस पोर्टल पर जाकर आप अपनी सारी डिटेल्स भरकर रजिस्टर कर सकते है।

ध्यान रहे रजिस्टर के दौरान आपके पास आधार कार्ड तथा इससे रजिस्टर मोबाइल नंबर अपने साथ रखे तथा आपने बैंक की सारी डिटेल्स आपने साथ रखे। आंकड़ों के मुताबिक अबतक इससे 19 करोड़ श्रमिक रजिस्टर कर चुके है। इसे असंगठित क्षेत्र समेत कंस्ट्रक्शन वर्कर, प्रवासी वर्कर, स्ट्रीट वेंडर, घरेलू , MGNREGA तथा कृषि मज़दूरों सभी लोग अपना ई-श्रमिक कार्ड(E-Shram Card Registration) बनवा सकते है परन्तु जो ESIC (Employee State Insurance Corporation) और EPFO (Employees Provident Fund Organisation) का सदस्य न हो।

E-Shram Card Registration

ई-श्रम कार्ड (E-Shram Card) का बनवाने का क्या है उद्देश्य?

भारत सरकार का ई-श्रमिक कार्ड(E-Shram Card Registration) बनवाने का उद्देश्य असंगठित क्षेत्र समेत कंस्ट्रक्शन वर्कर , प्रवासी वर्कर , स्ट्रीट वेंडर , घरेलू तथा कृषि मज़दूरों को आधार कार्ड से जोड़कर एक डाटाबेस तैयार किया जायेगा तथा इस डाटाबेस को सरकार श्रमिकों के संबंध में अलग-2 हितधारकों जैसे मंत्रालयों /विभागों /बोर्डों /एजेंसियों /केंद्र और राज्य सरकारों के संगठनों के साथ एपीआई (एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफ़ेस) के माध्यम से श्रमिकों के लिए लाभकारी योजनाओं को पहुँचाने में मदद मिलेगी तथा जिससे प्रवासी तथा कंस्ट्रक्शन वर्कर को सामाजिक सुरक्षा और लाभ देने में सरकार को आसानी होगी तथा भविष्य में कोविड 19 जैसी महामारी से निपटने में सरकार को सहयता मिलेगी।

यह भी पढ़े: Pro Kabaddi league Season 8: तमिल थलाइवाज ने यूपी योद्धा को हराकर दर्ज की PKL 8 में अपनी दूसरी जीत।

Leave a Reply

Your email address will not be published.